Home Breaking News उत्तर प्रदेश: कुछ सरकारी कर्मचारियों की नौकरी खतरे में, जानिए किन पर कार्रवाई करने की तैयारी में योगी सरकार

उत्तर प्रदेश: कुछ सरकारी कर्मचारियों की नौकरी खतरे में, जानिए किन पर कार्रवाई करने की तैयारी में योगी सरकार

0
उत्तर प्रदेश: कुछ सरकारी कर्मचारियों की नौकरी खतरे में, जानिए किन पर कार्रवाई करने की तैयारी में योगी सरकार

परीक्षा में अपनी जगह सॉल्वर बैठाकर सरकारी नौकरी पाने वाले आगरा के 30 कर्मचारी पुलिस के निशाने पर हैं। एक सॉल्वर गैंग से पूछताछ में ये सुराग मिले हैं। फर्जी तरीके से नौकरी पाने वालों को पुलिस, शिक्षा विभाग में तैनात किया जाता है। एक आरोपी न्याय विभाग में भी है। पुलिस सभी के खिलाफ सबूत जुटा रही है। परीक्षा आयोजित करने वाली संस्था द्वारा एडमिट कार्ड जारी किए जा रहे हैं।

एसओजी ने सुपर टेट परीक्षा में आवास विकास कॉलोनी स्थित शिवालिक कैम्ब्रिज स्कूल से भूपेश बघेल नाम के एक सॉल्वर को पकड़ा। वह फिरोजाबाद के भुवनेश्वर राणा की जगह परीक्षा देने आया था। फिरोजाबाद में तैनात सहायक शिक्षक वीनू सिंह ने भूपेश को परीक्षा देने के लिए भेजा था। रुपये का ठेका लिया था। लोहामंडी पुलिस ने वीनू सिंह और भुवनेश्वर राणा को पकड़कर जेल भेज दिया. जब वेणु से पूछताछ की गई तो पता चला कि उनकी जगह सॉल्वर भी बैठा था। उन्होंने टेट पास कर लिया। इसके बाद उन्हें सरकारी नौकरी मिल गई। इतना ही नहीं वीनू ने बताया कि पुलिस महकमे में कई सिपाही बन चुके हैं. उन्होंने सॉल्वर प्रदान किए। उनके माध्यम से शिक्षा विभाग में भी कई लोगों को नौकरी मिली है। एक युवक न्याय विभाग में तैनात है। पुलिस ने पूछताछ के बाद सूची बनाई। धोखाधड़ी के जरिए नौकरी दिलाने के आरोपी 30 सरकारी कर्मचारियों के नाम सामने आए।

Shudh bharat

जेल गए दो जवानों की नौकरी चली गई
सॉल्वर की मदद से दो युवक बने सिपाही। स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) की आगरा इकाई ने एक सॉल्वर पकड़ा, जिसके बाद धोखाधड़ी का पता चला। ट्रायल में दोनों कांस्टेबल वांछित थे। उसे गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया। उसकी नौकरी चली गई है। इस मामले में भी कुछ ऐसा ही हो सकता है।

मेरठ शहर में शादी, सगाई और अन्य आयोजनों में फैंसी पंडाल, फूलों की स्टेज, गद्दे, बिस्तर, क्रॉकरी व अन्य सामान के लिए संपर्क करें
गुप्ता टेंट हाउस एंड वेडिंग प्लानर : 82184346947397978781

परीक्षा आयोजित करने वाली संस्था से लिया जाएगा रिकॉर्ड
पुलिस ने कहा कि परीक्षा आयोजित करने वाले निकाय से रिकॉर्ड प्राप्त किया जाएगा। एडमिट कार्ड पर सॉल्वर की फोटो होगी। इस आधार पर यह साबित हो जाएगा कि नौकरी धोखे से मिली है। धोखाधड़ी के मामले में सबूत जुटाने के बाद ही आरोपियों के नाम सामने आएंगे। उनके खिलाफ नए मामले भी लिखे जा सकते हैं। आगरा एसएसपी का कहना है कि सॉल्वर गैंग से एसओजी और लोहामंडी पुलिस ने पूछताछ की. कई अहम सुराग मिले हैं। सबूत मिलने के बाद ही आगे की कार्रवाई की जाएगी। वीनू ने खुद फर्जी तरीके से परीक्षा पास की थी। उसकी नौकरी भी चली जाएगी।

news shorts

देश दुनिया के साथ ही अपने शहर की ताजा खबरें अब पाएं अपने WHATSAPP पर, क्लिक करें। Khabreelal के Facebookपेज से जुड़ें, Twitter पर फॉलो करें। इसके साथ ही आप खबरीलाल को Google News पर भी फॉलो कर अपडेट प्राप्त कर सकते है। हमारे Telegram चैनल को ज्वाइन कर भी आप खबरें अपने मोबाइल में प्राप्त कर सकते है।

advt.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

?>