Home Breaking News सूबेदार रामसिंह ने एक आतंकवादी को ढेर किया, दूसरे को तलाश रहे थे उसने अंधाधुंध फायरिंग कर दी; तीन गोलियां लगीं

सूबेदार रामसिंह ने एक आतंकवादी को ढेर किया, दूसरे को तलाश रहे थे उसने अंधाधुंध फायरिंग कर दी; तीन गोलियां लगीं

0
सूबेदार रामसिंह ने एक आतंकवादी को ढेर किया, दूसरे को तलाश रहे थे उसने अंधाधुंध फायरिंग कर दी; तीन गोलियां लगीं

कैप्टन वीर सिंह रावत के मुताबिक राम सिंह के साथियों से पता चला है कि छुपे हुए आतंकवादी ने राम सिंह पर फायरिंग कर दी। राम सिंह को तीन गोली लगी थीं

जम्मू-कश्मीर के राजौरी में बृहस्पतिवार को आतंकवादियों के साथ भीषण मुठभेड़ में 16वीं गढ़वाल रायफल्स के सूबेदार राम सिंह भंडारी शहीद हो गए। आर्मी से रिटायर कैप्टन वीर सिंह रावत ने बताया कि रामसिंह उनके बहुत अच्छे मित्र थे। कैप्टन वीर सिंह के मुताबिक मुठभेड़ के दौरान राम सिंह ने अपने साथियों को अपना एक वीडियो भेजा था, जिसमें उन्होंने बताया था कि यहां तीन आतंकवादी हैं। उन्हाेंने दो आतंकवादियों को गोली मार दी है, जिसमें से एक मर गया है, जबकि एक बाकी को वे तलाश रहे हैं। 

तीन गोली लगीं

कैप्टन वीर सिंह रावत के मुताबिक राम सिंह के साथियों से पता चला है कि छुपे हुए आतंकवादी ने राम सिंह पर फायरिंग कर दी। राम सिंह को तीन गोली लगी थीं, एक गोली पेट के नीचे, एक सीने पर और एक गोली कूल्हे पर लगी। राम सिंह लहूलुहान हालत में जमीन पर गिर गए। उनके साथी उन्हें अस्पताल लेकर गए उन्हें मृत घोषित कर दिया।

यह भी पढ़ें : जम्मू-कश्मीर के राजौरी में आतंकवादियों से मुठभेड़ में शहीद हुए मेरठ के जेसीओ राम सिंह भंडारी

15 दिन पहले ही छुट्‌टी से लौटे थे

कैप्टन वीर सिंह ने बताया कि राम सिंह 15 दिन पहले ही छुट्‌टी से लौटे थे। वे हसमुख और मिलनसार व्यक्तित्व के इंसान थे। 16वीं गढ़वाल रायफल्स के सूबेदार राम सिंह भंडारी को 2019 में 48 आरआर बटालियन जम्मू-कश्मीर में तैनाती मिली थी। वे फरवरी 2022 को सेना से रिटायर होने वाले थे। कैप्टन वीर सिंह ने बताया कि राम सिंह भंडारी IMA देहरादून और मद्रास में जवानों को ट्रेनिंग देते थे।

 देश के लिए कुर्बान हो गया मेरा भाई

कैप्टन सिंह के मुताबिक सूबेदार राम सिंह हमेशा कहते थे कि अब तक मैंने जवानों को तैयार किया है, लेकिन अब 48 आरआर बटालियन में तैनाती मिली है तो देश के लिए कुछ करके दिखाना है। कैप्टन सिंह ने नम आंखों के साथ कहा कि मेरा दोस्त मेरा भाई अपनी बात का पक्का निकला और देश के लिए कुर्बान हो गया, मुझे उसपर गर्व है।

स्पेशल ड्रिल इंस्ट्रक्टर थे

शहीद सूबेदार राम सिंह भंडारी के सीनियर रहे सेवानिवृत्त सूबेदार विरेंद्र बुढ़ाकोटी ने बताया कि राम सिंह भंडारी कर्मठ और साहसी थे। वे IMA  और NDA में तैनात रहे। वे स्पेशल ड्रिल इंस्ट्रक्टर थे।

15 साल से मेरठ में रह रहे थे शहीद सूबेदार राम सिंह भंडारी

शहीद सूबेदार राम सिंह भंडारी मूल रूप से गढ़वाल उत्तराखंड के रहने वाले थे, लेकिन बीते 15 साल से अपने परिवार के साथ मेरठ के ईशापुरम में रह रहे थे। शहीद सूबेदार के परिवार में उनके पिता, उनकी पत्नी अनीता भंडारी, 4 बेटियां और एक बेटा है। शहीद सूबेदार राम सिंह भंडारी की दो बेटियों की शादी हो चुकी है, जबकि एक बेटी M.com, बेटा B.com और सबसे छोटी बेटी 12वीं पास की है। वहीं शहीद सूबेदार राम सिंह के परिवार में दो छोटे भाई और दो बहने भी हैं। उनका एक भाई सेना से सेवानिवृत्त है, जबकि दूसरा भाई अपना व्यवसाय करता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here