Home Breaking News मुज़फ्फरनगर में विद्युत कर्मचारियों की हड़ताल का पड़ा असर, कई कॉलोनी हुई प्रभावित, उद्योग फीडर भी हुए बंद

मुज़फ्फरनगर में विद्युत कर्मचारियों की हड़ताल का पड़ा असर, कई कॉलोनी हुई प्रभावित, उद्योग फीडर भी हुए बंद

0
मुज़फ्फरनगर में विद्युत कर्मचारियों की हड़ताल का पड़ा असर, कई कॉलोनी हुई प्रभावित, उद्योग फीडर भी हुए बंद

मुजफ्फरनगर। विद्युत कर्मचारियों की चल रही  हड़ताल के चलते जनपदभर में बिजली घरों पर पूरा दिन ताले लटके रहे।  विद्युत आपूर्ति बाधित होने पर देर शाम अधिकारियों ने ताले खुलवायें। बताया जा रहा है कि गत तीन दिसम्बर 2022 को उर्जा मंत्री एके शर्मा के साथ हुए लिखित समझौते को पूरा न करने से क्षुब्ध विद्युत कर्मचारियों एवं पदाधिकारियों द्वारा हड़ताल कर अपने गुस्से का इजहार किया जा रहा है।

विद्युत एसोसिएशन के अध्यक्ष जगरोशन द्वारा बिजली घरों पर तालाबंदी करने के आदेश के बाद शहर के तमाम बिजली घरों में ताले लटका दिए गए। वहीं शहर भर के बिजली घरों में ताले लटकने की सूचना से पुलिस प्रशासन में हड़कंप मच

गया एवं सीओ सिटी आयुष विक्रम सिंह, नगर मजिस्ट्रेट अनूप कुमार व एसडीएम सदर परमानंद झा पुलिस बल के साथ शहर के तमाम बिजलीघरों पर पहुंचे और व्यवस्था का जायजा लिया।

अधिकारियों ने बिजलीघरों के ताले खुलवाकर वैकल्पिक व्यवस्था कराई और विद्युत व्यवस्था भी सुचारू करा दी गई।  इस दौरान नगर मजिस्ट्रेट अनूप कुमार द्वारा बिजली घर पर मौजूद मिले कर्मचारियों से ड्यूटी पर तैनात रहने की अपील की गई।

देर शाम विद्युत आपूर्ति बाधित होने से रूडकी रोड बिजलीघर पर बडी संख्या में लोग पहुंचे और विद्युत कर्मियों पर गुस्सा उतारा। सूचना पर अधिकारी मौके पर पहुंचे और लोगों को समझा बुझाकर शांत किया।

उल्लेखनीय है कि विद्युत कर्मचारियों द्वारा गत रात्रि से 72 घंटे की सांकेतिक हड़ताल पर जाने के कारण शहर की दर्जनभर मौहल्लों की बत्ती घंटों गुल हो रही है।  इसके अलावा पानी की बूंद-बूंद के लिए भी मोहल्लेवासी एवं कॉलोनीवासी तरस रहे है।

शहर के पॉश एरिया गांधी कॉलोनी, सुभाष नगर, अंकित विहार, वर्मा पार्क, बचन सिंह कालोनी, आदर्श कालोनी, पचैंडा रोड के अलावा किदवईनगर, दक्षिणी खालापार एवं कृष्णापुरी सहित दर्जनभर कालोनियों की बत्ती करीब 13 घंटे गायब रही, जिससे मोहल्लेवासियों एवं कॉलोनीवासी नहाने एवं खाने-पीने के लिए भी परेशान हो गए। बिजली न आने के कारण इनवर्टर भी ठप हो गए हैं।

लोगों का कहना है कि बिजलीघर पर फोन करने के बावजूद भी कोई रास्ता समझ में नहीं आ रहा कि कब तक बिजली आ पाएगी। उन्होंने बताया कि बिजली घर पर मौजूद कर्मचारी भी इस मामले में कोई सही जानकारी नहीं दे पा रहे। उन्होंने बताया कि बिजली घर पर मौजूद कर्मचारियों का कहना है कि जल्द ही बिजली आ जाएगी मगर कब आएगी कह नहीं सकते।

मोहल्लेवासियों एवं कॉलोनीवासियों का कहना है कि यदि विद्युत कर्मचारियों की कुछ मांगे हैं तो वह अपना काम बंद करके सरकार से अपनी मांगों को पूरा करने की मांग करें न कि मोहल्ले वासियों एवं कॉलोनीवासियों को परेशान किया जाए।

उन्होंने कहा कि यदि बिजली न देने एवं पानी न देने से उनकी समस्याओं का समाधान हो सकता है, तो हम उनके साथ हैं, वह जब तक चाहे तब तक बिजली पानी बंद कर दें।

इसके अलावा आईआईए चेयरमैन विपुल भटनागर ने बताया कि मखियाली सबस्टेशन से निकलने वाला औद्योगिक फीडर नंबर 2, भोपा रोड मुजफ़्फ़ऱनगर पर 16 मार्च सुबह 8 बजे से विद्युत आपूर्ति बाधित है, जिस कारण इस फ़ीडर पर आने वाले सारे उद्योग कल से बंद है, जिसके कारण भारी नुक़सान उठाना पड़ रहा है ।

उन्होंने बताया कि जैन मंदिर वहलना और नैराना सब स्टेशन से निकलने वाले फीडर भी बंद है जिससे इन फीडर से निकलने वाले उद्योग धंधे भी बंद हो रहे है।

.

News Source: https://royalbulletin.in/effect-of-electrical-workers-strike-including-gandhi-colony/21596

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here