Home Breaking News एसटीएफ ने एनकाउंटर में पकड़ा एक लाख का इनामी डकैत: मुजफ्फरनगर में 20 लाख रुपये की लूट की थी, सूरत बदली और बिहार में कपड़े बेचने लगा

एसटीएफ ने एनकाउंटर में पकड़ा एक लाख का इनामी डकैत: मुजफ्फरनगर में 20 लाख रुपये की लूट की थी, सूरत बदली और बिहार में कपड़े बेचने लगा

0
एसटीएफ ने एनकाउंटर में पकड़ा एक लाख का इनामी डकैत: मुजफ्फरनगर में 20 लाख रुपये की लूट की थी, सूरत बदली और बिहार में कपड़े बेचने लगा

स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) मेरठ ने शुक्रवार सुबह मुठभेड़ के बाद एक लाख रुपये के डकैत को गिरफ्तार किया है. मुठभेड़ की यह घटना आज सुबह 5 बजे मुजफ्फरनगर जिले के बुढाना इलाके में हुई. कुख्यात बाइक से जा रहा था। एसटीएफ ने घेराबंदी की तो बदमाशों ने पिस्तौल से एसटीएफ की टीम पर फायरिंग कर दी। एसटीएफ की जवाबी फायरिंग में बदमाश के पैर में गोली लगी है।

एसटीएफ मेरठ के डीएसपी बृजेश सिंह ने बताया कि 2017 में मुजफ्फरनगर के कोतवाली में बदमाशों ने 20 लाख रुपये की लूट को अंजाम दिया था. लूट की इस घटना में मेरठ का सरधना निवासी आशु उर्फ ​​लम्बू उर्फ ​​खालिद पुत्र अब्दुल हक फरार हो गया. जिस पर मुजफ्फरनगर के एसएसपी ने एक लाख का इनाम घोषित किया था। एसटीएस मेरठ और मुजफ्फरनगर क्राइम ब्रांच काफी समय से कुख्यात की तलाश में लगी हुई थी. लेकिन कुख्यात आशु का कोई पता नहीं चला। मुजफ्फरनगर के बधाना क्षेत्र में आज सुबह 5 बजे एसटीएफ मेरठ की टीम को सूचना मिली कि बुढाना इलाके में कुख्यात आंसू अपने अन्य साथियों के साथ मिलकर किसी घटना को अंजाम देने की कोशिश कर रहा है. एसटीएस ने संदिग्ध बाइक सवार को बुढाना के बाहर रोका तो बाइक छोड़कर बदमाश गन्ने के खेत की ओर भागने लगा। और एसटीएफ टीम पर पिस्टल से फायरिंग कर दी। एसटीएफ ने भी की जबाबी फायरिंग। कुख्यात आशु के पैर में गोली लगी है. इसके बाद एसटीएफ ने घायल को मुजफ्फरनगर के जिला अस्पताल में भर्ती कराया. जिसे अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद जेल भेजा जाएगा।

पहली डकैती 1997 में मेरठ में हुई थी
सरधना निवासी कुख्यात आशु उर्फ ​​आस मोहम्मद ने 1997 में इस जुर्म में कदम रखा और उसके बाद पीछे मुड़कर नहीं देखा। 1997 में आशु ने अपने साथियों के साथ सरधना में लाखों रुपये की लूट को अंजाम दिया। जिसके बाद पुलिस ने उसे जेल भेज दिया। जेल से छूटने के बाद आनुश ने 1997 में ही दूसरी बार 1 लाख की लूट को अंजाम दिया था। 2004 में उसी कुख्यात ने बागपत जिले में एक किसान की पैसे लेकर हत्या की थी। कुख्यात के खिलाफ मेरठ, बागपत, मुजफ्फरनगर में लूट, हत्या, रंगदारी, डकैती व जानलेवा हमले के 42 मामले दर्ज हैं.

आशु उर्फ ​​लम्बू हथियार सप्लायर रहा है
47 वर्षीयआंशु उर्फ ​​लंबू हथियारों का सप्लायर भी रहा है। मुठभेड़ की घटना के बाद एसटीएफ ने कुख्यात के पास से एक अवैध पिस्टल बरामद की है. जो बाइक मिली है, वह भी चोरी की बताई जा रही है। कुख्यात ने पिस्टल के बारे में बताया कि यह पिस्टल बिहार के मुंगेर से खरीदी गई थी. बिहार के मुंगेर से वह कपड़ों में छिपी कर पिस्टल मुजफ्फरनगर, मेरठ और अन्य जिलों में लाता था. मांग पर अवैध हथियारों की आपूर्ति करता था।

बिहार में कपड़े बेचना शुरू किया, 28 साल की लड़की बनाई पत्नी
2017 में मुजफ्फरनगर में लूट की घटना के बाद आंसू उर्फ ​​लम्बू फरार हो गया था. जो बिहार गया, उसने सबसे पहले बिहार में फल बेचने के लिए ठेला लगाया। और उसके बाद अपना रूप बदल लिया और बिहार के मधुबनी में कपड़े बेचने के लिए फेरी लगाने लगा। कुख्यात ने एसटीएफ को पूछताछ में यह भी बताया कि 3 साल पहले मधुबनी में एक 28 वर्षीय लड़की जो मुस्लिम थी. उसके पति ने तलाक दे दिया, उससे शादी कर ली और उसे पत्नी के रूप में साथ रखा। जबकि कुख्यात की पहली पत्नी मेरठ के सरधना में रहती है और पहली पत्नी से उसके 6 बच्चे हैं। एसटीएफ के डीएसपी बृजेश सिंह ने बताया कि कुख्यात कुछ दिन पहले बिहार से मेरठ में बकरीद मनाने आया था. जहां वो 1 दिन सरधना में रहा और उसके बाद मुजफ्फरनगर जिले में रहने लगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here