Home Breaking News अफगानिस्तान में अभी पिक्चर बाकि है! तालिबान का सबसे पुराना दुश्मन तालिबान के खिलाफ फिर से खड़ा हो गया

अफगानिस्तान में अभी पिक्चर बाकि है! तालिबान का सबसे पुराना दुश्मन तालिबान के खिलाफ फिर से खड़ा हो गया

0
अफगानिस्तान में अभी पिक्चर बाकि है! तालिबान का सबसे पुराना दुश्मन तालिबान के खिलाफ फिर से खड़ा हो गया

बूंदों और हिंसा के दम पर काबुल पर तालिबान ने भले ही कब्जा कर लिया हो, लेकिन अफगानिस्तान में तस्वीर पूरी तरह खत्म नहीं हुई है। तालिबान का सबसे पुराना दुश्मन अफगानिस्तान में खड़ा हो गया है और उसके शासन के खिलाफ आवाज उठाई है। अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बीच उसके शासन के खिलाफ खेमा तेज हो गया है। आतंकी संगठन से निपटने की रणनीति तैयार करने के लिए बेहद खतरनाक पंजशीर घाटी में तालिबान विरोधी ताकतें जमा हो गई हैं। इनमें पूर्व उपराष्ट्रपति अमरुल्ला सालेह और अफगान सरकार के वफादार जनरल अब्दुल रशीद दोस्तम और अता मोहम्मद नूर के साथ-साथ उत्तरी गठबंधन के सदस्य अहमद मसूद की सेनाएं शामिल हैं। ‘पंजशीर के शेर’ के नाम से मशहूर अहमद मसूद पूर्व अफगान नेता अहमद शाह मसूद के बेटे हैं।

devanant hospital

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक तालिबान के खिलाफ बगावत खड़ा करने वाले नॉर्दन अलायंस ने परवान प्रांत के  चारिकार इलाके पर दोबारा कब्जा कर लिया है. चूंकि  चारिकार राजधानी काबुल को उत्तरी अफगानिस्तान के सबसे बड़े शहर मजार-ए-शरीफ से जोड़ता है, इसलिए इस पर जीत को विद्रोहियों के लिए एक बड़ी सफलता के रूप में देखा जा रहा है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, सालेह की टुकड़ियों ने  चारिकार पर कब्जे को पंजशीर की तरफ से हमला किया। यह अफगानिस्तान का एकमात्र प्रांत है जिस पर तालिबान का कब्जा नहीं है। विद्रोहियों ने पंजशीर में उत्तरी गठबंधन उर्फ ​​यूनाइटेड इस्लामिक फ्रंट का झंडा भी फहराया। अब उनकी मंशा पूरी पंजशीर घाटी पर कब्जा करने की है।

दो दशकों के बाद फिर से उभरा उत्तरी गठबंधन
उत्तरी गठबंधन को 1990 के दशक में अफगानिस्तान में तालिबान शासन के खिलाफ मोर्चा खोलने के लिए जाना जाता है। शुरुआत में इस गठबंधन से केवल ताजख और तालिबान विरोधी मुजाहिदीन जुड़े थे, लेकिन बाद में अन्य जनजातियों के सरदार भी इसमें शामिल हो गए। उत्तरी गठबंधन का नेतृत्व अफगानिस्तान के पूर्व रक्षा मंत्री अहमद शाह मसूद ने किया था।

dr vinit new

सालेह ने अफगान लोगों के मन में जगाई उम्मीद
तालिबान का मुकाबला करने की रणनीति अफगानिस्तान के पूर्व उपराष्ट्रपति अमरुल्ला सालेह के नेतृत्व में बनाई जा रही है। अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी के देश छोड़कर भाग जाने के बाद सालेह ने खुद को कार्यवाहक राष्ट्रपति घोषित किया है। उन्होंने तालिबान से आखिरी सांस तक लड़ने का संकल्प लिया है। उन्होंने यह भी आश्वासन दिया है कि देश को कभी भी तालिबान के हवाले नहीं किया जाएगा। यही वजह है कि उत्तरी गठबंधन एक बार फिर तालिबान से भिड़ने को तैयार है।

तालिबान कभी पंजशीर घाटी पर कब्जा नहीं कर सका
पंजशीर घाटी अफगानिस्तान के 34 प्रांतों में से एक है। यह हिंदुकुश क्षेत्र में एक अत्यंत दुर्गम घाटी है, जो राजधानी काबुल के उत्तर में, ऊंचे पहाड़ों से घिरी हुई है। अफगान लोग इसे एक भूलभुलैया के रूप में देखते हैं, यंहा परिंदे का भी पंख मारना मुश्किल माना जाता है। यही वजह है कि 1980 के दशक से पंजशीर घाटी पर तालिबान का कब्जा नहीं है।

नामकरण की कहानी
पंजशीर घाटी का अर्थ है पांच शेरों की घाटी। ऐसा माना जाता है कि दसवीं शताब्दी में पांच भाइयों ने गजनी के सुल्तान महमूद के लिए एक बांध बनाया, जो बाढ़ के पानी को नियंत्रित करने में कामयाब रहा। इसके बाद यह क्षेत्र पंजशीर घाटी के नाम से जाना जाने लगा।

प्रतिरोध का गढ़
पंजशीर घाटी 1980 के दशक में सोवियत संघ और 1990 के दशक में तालिबान के खिलाफ प्रतिरोध का गढ़ थी। इसकी भौगोलिक स्थिति को देखते हुए, अमेरिका के नेतृत्व वाली सेनाएं भी क्षेत्र में जमीनी कार्रवाई करने का साहस जुटाने में सक्षम थीं। उनका अभियान केवल हवाई हमलों तक ही सीमित था।

सालेह का जन्मस्थान
पंजशीर घाटी को अफगानिस्तान के राष्ट्रीय प्रतिरोध मोर्चा का गढ़ कहा जाता है। अमरुल्ला सालेह और अहमद मसूद इसके प्रमुख नेता हैं। सालेह का जन्म पंजशीर घाटी में हुआ था। उन्होंने यहां सैन्य प्रशिक्षण भी प्राप्त किया। वहीं, अहमद मसूद पूर्व अफगान नेता अहमद शाह मसूद के बेटे हैं, जिन्हें ‘पंजशीर का शेर’ कहा जाता था।

ताजिक बहुल क्षेत्र

पंजशीर घाटी की आबादी एक लाख से ज्यादा है, इनमें से ज्यादातर ताजिक मूल के लोग हैं।
राजधानी काबुल से इसकी दूरी करीब 150 किमी है, इसे पन्ना खनन का केंद्र कहा जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here