Home Breaking News कुवैत : चार दिन से जल रहा है दुनिया का सबसे बड़ा टायर कब्रिस्तान, सैटेलाइट से नजर आया काला धुआं

कुवैत : चार दिन से जल रहा है दुनिया का सबसे बड़ा टायर कब्रिस्तान, सैटेलाइट से नजर आया काला धुआं

0
कुवैत : चार दिन से जल रहा है दुनिया का सबसे बड़ा टायर कब्रिस्तान, सैटेलाइट से नजर आया काला धुआं
aag
इस डम्पयार्ड में 2019 में भी आग लग चुकी है। उस आग को भी अंतरिक्ष से देखा गया था। उस आग का असर 25 लाख वर्ग मीटर तक था।

कुवैत में दुनिया का सबसे बड़ा टायर ग्रेवयार्ड 4 दिन से धधक रहा है। सैटेलाइट से यहां उठता काला धुआं और आग साफ नजर आ रहे हैं। बताया जा रहा है कि सुलायबिया शहर में मौजूद पुराने टायरों के इस डंपयार्ड में 70 लाख टायर रखे हैं, जिसके जलने के कारण हवा भी जहरीली हो गई है।इस डम्पयार्ड में 2019 में भी आग लग चुकी है। उस आग को भी अंतरिक्ष से देखा गया था। उस आग का असर 25 लाख वर्ग मीटर तक था। उस साइट पर सिर्फ 10 लाख टायर थे, जबकि इस बार जहां आग लगी है, वहां 70 लाख पुराने टायर हैं।

ankit

यहां रेतीली आंधियां भी आती हैं
कुवैत के समाचार पत्रों की रिपोर्ट्स के मुताबिक यहां कुवैत और कुछ दूसरे देशों से लाए गए 70 लाख से ज्यादा टायर रखे हैं, जिनमें बीते 4 दिन से लगी हुई है। रेगिस्तानी इलाका होने की वजह से खतरा ज्यादा बढ़ गया है। इस इलाके में अक्सर रेतीली आंधियां आती रहती हैं, जिसकी वजह से टायरों में रेत भर जाती है। यहां पुराने टायरों को रीसाइकिल करने के लिए तीन फैक्ट्री लगाने का प्लानबना था, लेकिन अब तक इस पर काम शुरू नहीं हो सका।

dr vinit

जहरीला धुआं सेहत के लिए खतरनाक
पुराने टायर सिर्फ कुवैत ही नहीं बल्कि दुनिया के लिए भी परेशानी का सबब बने हुए हैं। हालांकि, ज्यादातर को रीसाइकिल कर इस्तेमाल कर लिया जाता है, लेकिन इसके बावजूद कई देशों में इसके डम्पयार्ड हैं, जहां लाखों टायर पड़े रहते हैं। आग लगने की वजह से इनसे बेहद जहरीला धुआं निकलता है, जो पर्यावरण और स्वास्थ्य दोनों के लिहाज से खतरनाक है। कुवैत में तो यह समस्या ज्यादा है। टायर जलने से कार्बन मोनोऑक्साइड और सल्फर ऑक्साइड जैसे रसायन निकलते हैं। इन केमिकल्स से सांस लेने की बीमारी और कैंसर तक हो सकता है। इसके अलावा इन जहरीले धुएं का असर लंबे समय तक रहता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

?>