Home Breaking News साइबर अपराधियों बने, छोड़ी नौकरी: एक क्लिक पर उड़ाए बैंक खाते से पैसे, सॉफ्टवेयर इंजीनियरों ने बनाया ठगी का गिरोह, 100 लोगों को बनाया निशाना

साइबर अपराधियों बने, छोड़ी नौकरी: एक क्लिक पर उड़ाए बैंक खाते से पैसे, सॉफ्टवेयर इंजीनियरों ने बनाया ठगी का गिरोह, 100 लोगों को बनाया निशाना

0
साइबर अपराधियों बने, छोड़ी नौकरी: एक क्लिक पर उड़ाए बैंक खाते से पैसे, सॉफ्टवेयर इंजीनियरों ने बनाया ठगी का गिरोह, 100 लोगों को बनाया निशाना

मेरठ पुलिस ने ऑनलाइन ठगी करने वाले 4 इंजीनियरों को गिरफ्तार किया है. यह गिरोह दूसरे राज्यों में लोगों को ठगता था। ये चारों लॉकडाउन में नौकरी छोड़कर साइबर अपराधी बन गए। पुलिस की जांच में सामने आया है कि यह गिरोह अब तक यूपी, हरियाणा, पंजाब, दिल्ली समेत अन्य राज्यों में करीब 100 लोगों को अपना निशाना बना चुका है.

सीओ ब्रह्मपुरी अमित राय ने बताया कि एडीजी कार्यालय में तैनात हेड कांस्टेबल गजराज सिंह के वाट्सएप पर एक लिंक आया था. गजराज सिंह ने लिंक पर क्लिक किया तो उनके खाते से 2000 रुपये कट गए। इस संबंध में पीड़िता ने टीपी नगर थाने में मामला दर्ज कराया है. साइबर टीम और टीपी नगर पुलिस ने जांच की तो पता चला कि यह गैंग ऑनलाइन ठगी करता है। इस मामले में पुलिस ने शनिवार की रात गौरव निवासी गोकुल विहार, अंकित शर्मा निवासी टीपी नगर, रजत शर्मा निवासी गोकुल विहार, हाल का पता नोएडा व प्रिंस निवासी शांतिकुंज को गिरफ्तार किया. सभी मेरठ के रहने वाले हैं। इनके पास से चार मोबाइल फोन बरामद किए गए हैं। सीओ ने बताया कि इस गिरोह का मास्टरमाइंड रजत यादव है, जो नोएडा की एक कंपनी में इंजीनियर था। 1 साल पहले सभी ने मिलकर ठगों का यह गिरोह बनाया था। इनमें अंकित एक कॉल सेंटर में काम करता था, जबकि रजत एक आईटी कंपनी में इंजीनियर था। और प्रिंस एक आईटी कंपनी में इंजीनियर था । गौरव भी बीटेक पास है और नोएडा की एक कंपनी में सॉफ्टवेयर इंजीनियर था।

लिंक पर क्लिक करते ही खाते से उड़ जाते थे पैसे
सीओ अमित राय ने बताया कि गिरफ्तार किए गए ये चारों आरोपी इंजीनियर हैं. लॉकडाउन में उन्होंने अपने घर से ही ऑनलाइन काम करना शुरू कर दिया। जहां वे साइबर बात करने लगे। वे सॉफ्टवेयर बनाकर लोगों को संदेश भेजते थे। जिसमें कीमत और आपके खाते में पैसे ट्रांसफर करने जैसे लुभावने मैसेज भेजे गए थे। लोगों ने उनकी बातों में फंसकर जैसे ही मैसेज पर क्लिक किया, मैसेज पर क्लिक करते ही एक ओटीपी आ गया। जिसे ये लोग सॉफ्टवेयर की मदद से संचालित करते थे, उसके बाद खाते से पैसे उड़ा दिए गए। साइबर टीम की जांच में यह बात सामने आई है कि बैंकों के खाते मोबाइल नंबर से जुड़े थे, इस गिरोह ने फर्जी तरीके से अलग-अलग राज्यों के मोबाइल नंबर कलेक्ट किए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

?>