Home Breaking News सिवलखास में गठबंधन प्रत्याशी गुलाम मोहम्मद जीते, मेरठ में पश्चिम यूपी की इस विवादित सीट से भारतीय जनता पार्टी के मनिंदर पाल हारे

सिवलखास में गठबंधन प्रत्याशी गुलाम मोहम्मद जीते, मेरठ में पश्चिम यूपी की इस विवादित सीट से भारतीय जनता पार्टी के मनिंदर पाल हारे

0
सिवलखास में गठबंधन प्रत्याशी गुलाम मोहम्मद जीते, मेरठ में पश्चिम यूपी की इस विवादित सीट से भारतीय जनता पार्टी के मनिंदर पाल हारे

पश्चिम उत्तर प्रदेश में गठबंधन की प्रमुख सीटों में शामिल मेरठ की सिवलखास विधानसभा में गठबंधन ने जीत का झंडा फहराया है। विधानसभा चुनाव में सबसे विवादास्पद सीट मेरठ की सिवलखास थी। इस सीट पर सबसे ज्यादा विवाद हुआ था, इस सीट पर गठबंधन ने जीत हासिल की है। इधर गठबंधन से रालोद के चुनाव चिह्न पर चुनाव लड़ने वाले पूर्व विधायक गुलाम मोहम्मद की जीत हुई है। बीजेपी प्रत्याशी मनिंदर पाल सिंह हार गए हैं।Read Also:-बागपत : रालोद कार्यकर्ताओं ने किया हंगामा, दोबारा वोटिंग की मांग, पुलिस ने दागे आंसू गैस के गोले, 10 रालोद कार्यकर्ता हुए घायल

गुलाम मोहम्मद को टिकट देने से जाट खफा
पश्चिम यूपी में सिवलखास सीट रालोद की सबसे मजबूत सीट मानी जाती है। यह जाट बहुल सीट है क्योंकि यह बागपत लोकसभा से सटा हुआ है। जब सपा और रालोद के बीच गठबंधन हुआ था, तब रालोद सीट बंटवारे में सिवलखास सीट पर एक जाट चेहरा उतारने की कोशिश कर रहा था। यह सीट रालोद से राजकुमार सांगवान के पास जाने वाली थी। लेकिन आखिरी मौके पर गठबंधन ने इस सीट पर सपा नेता गुलाम मोहम्मद को टिकट दिया। मुस्लिम को टिकट दिए जाने को लेकर जाटों में खासा रोष था। रालोद के पूर्व जिलाध्यक्ष राहुल देव ने भी जाट को इस सीट पर नहीं उतारने के कारण रालोद से इस्तीफा दे दिया था। जयंत के गठबंधन के बाद पहली रैली अखिलेश ने भी इसी सीट पर की थी। जयंत खुद यहां प्रचार के लिए आए थे।

भाजपा प्रत्याशी का शुरू से ही विरोध रहा
भाजपा प्रत्याशी मनिंदर पाल सिंह शुरू से ही इस सीट के विरोध में थे। जाट चेहरा होने के बाद शिवलखा के जाट मनिंदर को लेकर नाराज हो गए थे। जिसका असर नतीजों में साफ नजर आ रहा है. चुनाव प्रचार के दौरान जाटों ने मनिंदर को कई गांवों में घुसने तक नहीं दिया और विरोध भी किया. उनके काफिले पर भी हमला किया गया।

2017 में बीजेपी ने जीती थी
2017 में सिवलखास विधानसभा में इस सीट से बीजेपी उम्मीदवार जितेंद्र सतवई ने जीत हासिल की थी। इस चुनाव में पार्टी ने जितेंद्र सतवई का टिकट काट दिया और जाट चेहरे मनिंदर पाल सिंह को अपना उम्मीदवार बनाया। मनिंदर पाल सहकारी बैंक मेरठ-बागपत के अध्यक्ष हैं। 2017 में इस सीट पर दूसरे नंबर पर थे।
2017 के विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार जितेंद्र पाल सिंह ने जीत हासिल की, उन्हें इस चुनाव में 72842 वोट मिले थे, जबकि समाजवादी पार्टी प्रत्याशी गुलाम मोहम्मद दूसरे स्थान पर रहे थे उन्हें 61421 मत मिले थे वहीं भाजपा प्रत्याशी ने 11421 मतों के अंतर से जीत दर्ज की थी।

गुलाम मोहम्मद की फिर से जीत
2012 में सपा की लहर में गुलाम मोहम्मद ने सपा के टिकट पर सिवलखास सीट से चुनाव लड़ा और जीत हासिल की। बाद में अखिलेश ने उन्हें मंत्री भी बना दिया। 2017 में गुलाम मोहम्मद को फिर सपा से टिकट दिया गया लेकिन गुलाम मोहम्मद बीजेपी के जितेंद्र सतवई से हार गए। 2022 के चुनाव में गुलाम मोहम्मद को रालोद के चुनाव चिह्न पर गठबंधन से लड़ा गया था और गुलाम की जीत हुई है। गुलाम मोहम्मद ने पुरानी हार का बदला ले लिया है। मुसलमानों के साथ-साथ जाटों ने भी गुलाम मोहम्मद को वोट दिया है। जाट बहुमत वाली सीट पर सबसे ज्यादा विवाद हुआ।

सिवलखास सीट पर वोटों की गिनती

  • गुलाम मोहम्मद – गठबंधन – 10105
  • मनिंदर पाल सिंह – भाजपा – 91510
  • मुकर्रम अली लिटिल खातून – बसपा – 29386
whatsapp gif

देश दुनिया के साथ ही अपने शहर की ताजा खबरें अब पाएं अपने WHATSAPP पर, क्लिक करें। Khabreelal के Facebookपेज से जुड़ें, Twitter पर फॉलो करें। इसके साथ ही आप खबरीलाल को Google News पर भी फॉलो कर अपडेट प्राप्त कर सकते है। हमारे Telegram चैनल को ज्वाइन कर भी आप खबरें अपने मोबाइल में प्राप्त कर सकते है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

?>